Hindi Murli Quiz 09-11-2014

10 | Total Attempts: 202

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 09-11-2014

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज  के लिए यहाँ क्लिक करें |


Questions and Answers
  • 1. 
    संगमयुगी अलौकिक जन्म की जन्मपत्री अर्थात दिव्य जन्म लेते ही बच्चों ने बापदादा से वा स्वयं से क्या-क्या वायदे किये है और अब तक कौन से वायदे और किस परसेंट मे निभाए हैं I बच्चों की अब तक की जन्मपत्री देख कर बापदादा ने रिजल्ट में जो कुछ देखा बच्चों के उस खेल को, सही उत्तरों का चयन करके, वर्णन करें --  
    • A. 

      कुछ समय शुभ भावना वा कल्याण की कामनाओ से सफलता मूर्त बनते हैं ।

    • B. 

      फिर फुल अटेंशन के बजाए सिर्फ अटेंशन रह जाता और बीच-बीच में अटेंशन बदल टेंशन का रूप भी हो जाता है ।

    • C. 

      "जन्म सिद्ध अधिकार है" के बजाए बाप दादा के आगे कभी यह बोल निकलते है कि अधिकार दो, शक्ति दो I

    • D. 

      पुरूषार्थ की स्टेज कभी तीव्र पुरूषार्थ, कभी पुरूषार्थ, कभी हलचल, कभी अचल हो जाती ।

    • E. 

      रास्ते के नजारों में मंजिल की तरफ से किनारा कर लेते है ।

  • 2. 
    बच्चों को अब पुराना खेल बंद कर देना चाहिए क्योंकि बापदादा अभी नया खेल देखना चाहते हैं ।बापदादा बच्चों के इस नये खेल में क्या-क्या विशेषताएं चाहते हैं ?[सही उत्तरों का चयन कर उन विशेषताओं को स्पष्ट करें]   
    • A. 

      जिस खेल में हर दृश्य का लक्ष्य सदा विजय हो ।

    • B. 

      हम विजयी हैं, विजयी रहेगे - ऐसा सकल्प सदा हर कर्म में प्रत्यक्ष दिखाई दे ।

    • C. 

      स्वयं भी हर कार्य मे सफल रहो और सर्व आत्माओ को भी सफलता के अधिकारी बनाओ ।

    • D. 

      बीती सो बीती कर व्यर्थ का खाता समाप्त करो और समर्थ का खाता हर सकल्प मे जमा करो ।

    • E. 

      अभी से सदाकाल के लिए अपने को ताज तिलक और तख्तधारी अनुभव करो ।

  • 3. 
    "विश्व सेवा मे संकल्प, वाणी और कर्म से दिन-रात सच्चे सेवाधारी बन संगठित रूप में सदा तत्पर हो जाओ तो विश्व सेवा में स्वय की चढती कला स्वत. होती जायेगी । पुण्य आत्मा बन, पुण्य का फल प्राप्त कर रहे है, सदा ऐसे अनुभव करेगे क्योकि समय की समीपता प्रमाण हर श्रेष्ठ कर्म का फल सदा सन्तुष्टता के रूप मे वर्तमान और भविष्य दोनों ही काल में प्राप्त होगा । अभी प्राप्ति की मशीनरी तीव्रगति से अनुभव करेंगे ।"
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 4. 
    इस संगम युग पर  व्यर्थ का भी और समर्थ का भी -- दोनो कर्म का फल लाख गुणा प्राप्ति क्या होती है, यह सब अनुभव करेगे I इसलिए लाख गुणा जमा करने का समय अब बाकी थोड़ा सा रह गया है । अब का जमा होना, जन्म-जन्मान्तर की प्रालब्ध बनाना है । इसके लिए विशेष क्या करना है? बापदादा ने इसके लिए कुछ बाते याद रखने के लिए बोला है I वह कौन सी बातें हैं, उनका चयन करके स्पष्ट करें ----   
    • A. 

      सदा अपने को विशेष आत्मा समझ संकल्प वा कर्म करो ।

    • B. 

      सदा हरेक मे विशेषताओ को देखो ।

    • C. 

      हर आत्मा मे विशेष आत्मा की भावना रखो।साथ-साथ विशेष बनाने की, शुभकल्याण की कामना रखो ।

  • 5. 
    इस संगम युग पर जमा करने के लिए  बापदादा ने हमें सावधान भी किया है कि - जिस अवगुण वा कमजोरी को हर आत्मा छोड़ने का पुरूषार्थ कर रही है, ऐसी दूसरे द्वारा छोड़ने वाली चीज को स्वयं कभी---------- नही करना । दूसरे द्वारा फेकी हुई चीज को लेना यह ईश्वरीय रॉयल्टी नही । रॉयल आत्माएं दूसरे की बढिया चीज भी फेकी हुई नही लेती । यह तो अवगुण गन्दगी है । उसे संकल्प मे भी -------- करना महापाप हैI  [सही उत्तर चयन कर रिक्त स्थानों को भरें ] 
    • A. 

      धारण

    • B. 

      स्वीकार

    • C. 

      वर्णन

    • D. 

      ग्रहण

  • 6. 
    संगमयुग के समय को 'हर कदम में पदमों की कमाई' का वरदान मिला हुआ है I  तो एक सेकेण्ड भी वा एक कदम भी जमा नही किया तो कितना नुकसान हो जायेगा I इसलिए यहाँ बहुत अटेंशन चाहिए I अभी अलौकिक जन्म हुआ है इसलिए हर कदम अलौकिक होना चाहिए, साधारण नही ।                           
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 7. 
    आज के वरदान के अनुसार एकाग्रता की शक्ति बढ़ाने से होने वाली सभी प्राप्तियां टिक [चयन ] करें ----  
    • A. 

      सर्व सिद्धियो प्राप्त होती हैं I

    • B. 

      एकाग्रता की शक्ति सहज निर्विघ्न बना देती है I

    • C. 

      मेहनत करने की आवश्यकता नही रहती ।

    • D. 

      एक बाप दूसरा न कोई - इसका सहज अनुभव होता है I

    • E. 

      सहज एकरस स्थिति बन जाती है ।

    • F. 

      सर्व के प्रति कल्याण की वृत्ति, भाई- भाई की दृष्टि रहती है ।

  • 8. 
    कमल पुष्प के समान न्यारे रहो तो प्रभू के प्यार का ----------- बन जायेगे ।[एक सही उत्तर से रिक्त स्थान भरें ]
    • A. 

      पात्र

    • B. 

      आधार

    • C. 

      हकदार

    • D. 

      सागर

Back to Top Back to top