Hindi Murli Quiz 12-10-2014

10 | Total Attempts: 152

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 12-10-2014

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज  के लिए यहाँ क्लिक करें |


Questions and Answers
  • 1. 
     " बापदादा यही बच्चों को कहते हैं -- समान भव, सम्पन्न भव, सम्पूर्ण भव । इसका सबसे सहज साधन है -सदा स्नेह के सागर में समा जाओ ।" 
    • A. 

      True / ये वाक्य सही है

    • B. 

      False / ये वाक्य गलत है

  • 2. 
    "आज के दिन बापदादा के गले मे बच्चों के स्नेह के मोतियो की मालाओं के साथ-साथ, मीठे-मीठे उल्हनो की मालाये भी पड़ती जा रही थी । लेकिन इस वर्ष उल्हनो मे अन्तर देखा । इस वर्ष मैजारिटी का उल्हना यह रहा कि अब बाप ---------- बन बाप के पास पहुँच जाएं । ---------बनने का उमंग-उत्साह मैजारिटी मे अच्छा रहा । ---------बनने की इच्छा बहुत तीव्र है, बन जाये और आ जाये I" [एक सही उत्तर का चयन कर सभी रिक्त स्थानों की पूर्ति करें ]
    • A. 

      समान

    • B. 

      प्रिय

    • C. 

      मित्र

  • 3. 
    आज की मुरली के अनुसार स्नेह एक महान शक्ति है I इससे होने वाले विभिन्न फायदों  का चयन करें ---[एक से अधिक उत्तर सही हो सकते हैं,सभी सही उत्तरों पर निशान लगायें ]  
    • A. 

      स्नेह देह और देह की दुनिया सब कुछ भुला देता है ।

    • B. 

      स्नेह मेहनत से छुड़ा देता है ।

    • C. 

      स्नेह सदा सहज बापदादा का हाथ अपने ऊपर अनुभव कराता है ।

    • D. 

      स्नेह छत्रछाया बन मायाजीत बना देता है ।

    • E. 

      स्नेह पहाड़ रुपी समस्या को भी पानी जैसा हल्का बना देता है ।

  • 4. 
    बापदादा कहते है और कोई पुरुषार्थ नहीं करो. बस स्नेह के सागर में समा जाओ । कभी-कभी बच्चे स्नेह के सागर मे समाते है लेकिन थोडा सा समय समाया, फिर बाहर निकल आते हैं । अभी- अभी कहेंगे बाबा, मीठा बाबा, प्यारा बाबा और अभी- अभी बाहर निकलते और बातों मे लग जाते है । बापदादा कहते कि सदा समाये रहो, स्नेह की शक्ति सदा कार्य मे लगाओ,स्नेह की शक्ति सबसे सहज मुक्त कर देगी ।
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 5. 
    "अभी समय प्रमाण सबको बेहद के वैराग्य वृत्ति में जाना ही होगा । अभी भी कई बच्चे कहते है - समय सिखा देगा, समय बदल देगा । समय के अनुसार तो सारे विश्व की आत्मायें बदलेगी ही लेकिन आप बच्चे समय का इन्तजार नही करो । समय तुम्हारी रचना है तो रचना को अपना शिक्षक नही बनाओ । उसमे मार्क्स कम हो जाते हैं ।" 
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 6. 
    ब्रह्मा बाप ने समय को शिक्षक नही बनाया I तन,मन,धन,समय,साधन,मकान आदि हर बात में बेहद का वैराग्य आदि से अन्ततक रहा I उनके प्रत्यक्ष जीवन मे बेहद की वैराग्य वृत्ति के कुछ उदाहरण टिक लगाकर चयन करें -----[सभी सही उत्तर चयन करें ] .  
    • A. 

      तन के लिए कहते थे – यह बाबा का रथ है । बाबा के रथ को खिलाता हूँ, मैं खाता नही हूँ ।

    • B. 

      मन के लिए --मन तो मनमनाभव था ही ।

    • C. 

      धन भी लगाया परन्तु कहते -भोलेनाथ का भण्डारा है I कन्याओ-माताओ को विल किया, मेरापन नहीं ।

    • D. 

      समय, खास अपने प्रति नहीं, उससे भी बेहद के वैरागी रहे ।

    • E. 

      वस्त्र तक, एक ही प्रकार के वस्त्र अन्त तक रहे । चेंज नही किया ।

    • F. 

      बच्चो के लिए मकान बनाये लेकिन स्वय यूज नही किया, बच्चो के कहने पर भी सुनते हुए उपराम रहे ।

    • G. 

      अन्त मे बच्चे सामने थे, हाथ पकड़ा हुआ लेकिन लगाव नही I एक ही लगन सेवा और सभी बातो से उपराम ।

  • 7. 
    अभी सूक्ष्म सोने की जंजीर के --------बहुत हैं । कई बच्चे तो -------को समझते भी नही हैं कि यह --------है । समझते हैं कि यह तो होता ही है, यह तो चलता ही है । अनेक प्रकार के ------- बेहद के वैरागी बनने नही देते है । मोटा-मोटा पुरुषार्थ तो है लेकिन सूक्ष्म -------मे बन्ध जाते हैं। करना ही है, यह वैराग्य वृत्ति अभी इमर्ज नहीं है ।[एक सही उत्तर चयन करें ] 
    • A. 

      लगाव

    • B. 

      प्रभाव

    • C. 

      तनाव

  • 8. 
    "-----------स्थिति द्वारा तीनों कालों का स्पष्ट अनुभव करने वाले मास्टर नालेजफुल भव:"[एक सही उत्तर से रिक्त स्थान भरें ] 
    • A. 

      त्रिकालदर्शी

    • B. 

      अचल-अडोल

    • C. 

      योग-युक्त

    • D. 

      उपराम

Back to Top Back to top