Hindi Murli Quiz 02-10-2014

10 | Total Attempts: 226

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 02-10-2014

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज  के लिए यहाँ क्लिक करें |


Questions and Answers
  • 1. 
      "मीठे बच्चे - सतगुरू की पहली-पहली श्रीमत है ------------------------------------------ ''(सभी सही उत्तरों  का चयन करें )
    • A. 

      देही- अभिमानी बनो,

    • B. 

      देह- अभिमान छोड़ दो,

    • C. 

      योग का चार्ट बढ़ाओ,

    • D. 

      कभी बाबा की मुरली मिस नहीं करो,

  • 2. 
    "कोई क्या बनते हैं, कोई क्या बनते हैं । प्रजा भी तो बहुत बनती है । सारा एक्टिविटी से मालूम पड़ता है । यह देह- अभिमान में कितना रहते हैं, इनका कितना लव है बाप से । बाप के साथ ही लव चाहिए ना, भाई-भाई का नहीं । भाइयों के लव से कुछ मिलता नही है । वर्सा सबको एक बाप से ही मिलना है ।"
    • A. 

      True / ये वाक्य सही है

    • B. 

      False / ये वाक्य गलत है

  • 3. 
      बच्चों को ही बाप को -------- करना है ।--------- की सबजेक्ट ही डिफीकल्ट है । बाप --------और नॉलेज सिखाते हैं । नॉलेज तो बहुत सहज है । बाकी --------- में ही फेल होते हैं । देह- अभिमान आ जाता है ।[निम्लिखित में से एक सही उत्तर से उपरोक्त रिक्त स्थानों को भरें ]
    • A. 

      याद

    • B. 

      प्यार

    • C. 

      त्याग

    • D. 

      फॉलो

  • 4. 
    इस समय तुम बच्चे कोई भी इच्छा या चाहना नहीं रख सकते हो,क्योंकि--------[सभी सही उत्तरों का चयन करें ]
    • A. 

      क्योंकि तुम सब वानप्रस्थी हो ।

    • B. 

      तुम जानते हो इन आखों से जो कुछ देखते हैं वह विनाश होना है ।

    • C. 

      अब तुम्हें बिल्कुल बेगर बनना है ।

    • D. 

      अगर कोई ऊंची दुनियावी चीज़ पहनेंगे तो खींचेगी, फिर देह- अभिमान में फंसते रहेंगे ।

  • 5. 
    "जो और- और धर्मो में कनवर्ट हो गये हैं उन्हों को यह धर्म ही अच्छा लगेगा, फट निकल आयेंगे । बाकी कोई को अच्छा नहीं लगेगा तो वह पुरूषार्थ ही कैसे करेंगे ।" 
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 6. 
    आज की मुरली अनुसार धारणा के लिए पॉइंट्स चयन करें --   
    • A. 

      इस बेहद नाटक में एक्ट करते हुए सारे नाटक को साक्षी होकर देखना है ।

    • B. 

      वर्ल्ड की हिस्ट्री-जाँग्राफी रिपीट का अर्थ ही है हूबहू रिपीट, इसमें मूँझना नहीं है I

    • C. 

      अपने आसुरी स्वभाव को बदल दैवी स्वभाव धारण करना है ।

    • D. 

      एक-दो का मददगार होकर चलना है, किसी को तंग नहीं करना है ।

  • 7. 
    "दिव्यता अर्थात सत्यता और यथार्थपन I दिव्यता का अनुभव करने के लिये समय, श्वास , बोल, कर्म, सबमें व्यर्थ के अविद्या स्वरूप बनो I अर्थात व्यर्थ या माया से इननोसेंट हो I"  
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 8. 
    " --------------------में आना है तो ब्रह्मा  बाप के कदम पर कदम रखो ।"[आज के स्लोगन के अनुसार एक सही उत्तर से सभी रिक्त स्थानों की पूर्ति  करें] 
    • A. 

      फर्स्ट डिवीजन

    • B. 

      सतयुग

    • C. 

      त्रेता युग

    • D. 

      84 जन्म

Back to Top Back to top