Hindi Murli Quiz 31-08-2014

10 | Total Attempts: 226

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 31-08-2014

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज  के लिए यहाँ क्लिक करें |


Questions and Answers
  • 1. 
    मधुबन निवासी अर्थात् (उत्तर एक या एक से ज्यादा भी हो सकते हैं)
    • A. 

      सदा भाग्य के तख्तनशीन

    • B. 

      मधुरता के सागर में सदा लहरानेवाले

    • C. 

      मायाजीत

    • D. 

      संगमयुगी स्वर्ग

  • 2. 
    मायाजीत बनने कौन-सा पाठ याद रखना है? 
    • A. 

      जो हो रहा है वो अच्छा और जो होने वाला है वो और अच्छा

    • B. 

      श्रेष्ठता को सामने रखने से व्यर्थ बातें समाप्त हो जाती है ।

    • C. 

      व्यर्थ बातों को एक कान से सुन दूसरे से निकाल देना है ।

  • 3. 
    अप्राप्त नहीं कोई वस्तु _____ के खजाने में...  
    • A. 

      स्वर्ग

    • B. 

      भोलेनाथ

    • C. 

      रावण

    • D. 

      ब्राह्मणों

  • 4. 
    आज बापदादा ने मधुबन को ये सारी उपमाएं/नाम दिए हैं....
    • A. 

      संगमयुगी स्वर्ग

    • B. 

      मिलन- भूमि

    • C. 

      संगमयुग

    • D. 

      लाईट हाउस

    • E. 

      टीवी. स्टेशन

  • 5. 
    विस्तार को न देख ____ अर्थात् बिन्दु को देखो  |
  • 6. 
    आज की मुरली में ये सारे बाबा के महावाक्य हैं :-(उत्तर एक या एक से ज्यादा भी हो सकते हैं)
    • A. 

      मधुबन निवासी हर बात में विशेष आत्माए हर समय कोई विशेषता दिखाने वाली हो, जो भी अतृप्त आवें वह यह अनुभव करें कि मधुबन निवासियों में यह विशेषता थी ।

    • B. 

      मधुबन निवासी मधुबन में बैठे हुए भी किसी प्रकार के विशेष संकल्प द्वारा वायब्रेशन फैलाने चाहे तो इस एक स्थान पर बैठे हुए भी चारों ओर फैला सकते है ।

    • C. 

      ज्ञान की धारणा करते रहो तो अन्त में तुम बाप समान बन जायेंगे. बाप की सारी ताकत तुम हज़म कर लेंगे |

    • D. 

      जब भी कोई बात हो, मन चंचल हो तो श्रीमत का लगाम टाइट करो तो मंज़िल पर पहुच जायेंगे । बालक सो मालिक हूँ - इस स्मृति से अधिकारी बन मन को अपने वश में रखो ।

  • 7. 
    हमे _____का बच्चा बन सर्व आत्माओं को देना है न कि लेना है । हरेक ____पन की भावना रखे तो सब देने वाले अर्थात् सम्पन्न आत्मा हो जायेंगे । 
  • 8. 
    आज बापदादा ने  ये सारे डायरेक्शन दिए हैं....
    • A. 

      विस्तार को न देख एक सार को देखो ।

    • B. 

      ऐसी स्टेज हो जिसमें साकार शरीर भी आकारी रूप में अनुभव हो

    • C. 

      अपनी विशेषता को जान उसको कर्म में लगाओ ।

    • D. 

      ऐसी सम्पन्न स्थिति का अनुभव करो कि हम सदा तृप्त आत्माएं है

    • E. 

      श्रीमत की लगाम को टाइट करो

Back to Top Back to top