Hindi Murli Quiz 18-05-2014

10 Questions | Total Attempts: 113

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 18-05-2014

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज के लिए यहाँ क्लिक करें


Questions and Answers
  • 1. 
    आज विशेष ब्रह्मा द्वारा विदेशी या देशी दोनों तरफ़ के बच्चों की महिमा के गुणगान हो रहे थे. जैसे आदि में आये हुए बच्चों के भाग्य की महिमा है, वैसे ही ____ रूप में पालना लेने वाले नये बच्चों की भी इतनी महिमा है.
    • A. 

      व्यक्त

    • B. 

      वर्तमान

    • C. 

      यादगार

    • D. 

      अव्यक्त

  • 2. 
    जैसे आदि में कोई प्रैक्टिकल जीवन का प्रभाव नहीं था सिर्फ़ एक बाप का स्नेह ही प्रमाण था. भविष्य क्या होना है – यह कुछ स्पष्ट नहीं था, गुप्त था. लेकिन आत्मायें शमा पर पूरे ____ थी. ऐसे ही नये बच्चों के आगे अनेक जीवन के प्रमाण हैं. आदि मध्य अन्त स्पष्ट हैं. 84 जन्मों की जन्म-पत्री स्पष्ट है. पुरुषार्थ और प्रारब्ध दोनों ही स्पष्ट हैं लेकिन बाप अव्यक्त हैं.
    • A. 

      न्योछावर

    • B. 

      बलिहार

    • C. 

      पतंगे

    • D. 

      अर्पण

  • 3. 
    उल्ह्नों की मालायें भी खूब थी, वह उल्ह्नों की मालायें, ब्रह्मा को स्नेह रूप बना रही थी. सुनाया ना, कि आज ब्रह्मा विशेष बच्चों के स्नेह में समाये हुए थे.
    • A. 

      सही

    • B. 

      गलत

  • 4. 
    बाप की पालना अव्यक्त रूप में होते हुए भी व्यक्त रूप का अनुभव कराती है. अव्यक्त को व्यक्त अनुभव करना, समीप और साथ का अनुभव करना – यह कमाल ____ बच्चों की है.
    • A. 

      अनन्य

    • B. 

      नये

    • C. 

      डबल विदेशी

    • D. 

      स्नेही

  • 5. 
    16108 की माला के मणके तैयार हैं लेकिन नम्बरवार पिरोने के लिए लास्ट सेकण्ड भी अभी रहा हुआ है. मणके फिक्स हो गये हैं, ____ फिक्स नहीं हुई है. ____ में लास्ट से फ़ास्ट हो सकते हैं.
    • A. 

      जगह

    • B. 

      प्रालब्ध

    • C. 

      प्राप्ति

    • D. 

      पद

  • 6. 
    स्नेह की मूर्ति होते हुए भी ड्रामा की सीट पर सेट थे इसलिए स्नेह को समा रहे थे. आप लोग भी सागर के बच्चे समाने वाले हो ना. दिखा भी सकते हो और समा भी सकते हो. मर्ज और इमर्ज करना अच्छी तरह से जानते हो ना क्योंकि हो ही ____ एक्टर. जब चाहें, जैसे चाहें वैसा रूप धारण कर सकते हो अर्थात् पार्ट बजा सकते हो.
    • A. 

      बहुरूपी

    • B. 

      डबल

    • C. 

      साक्षी भाव वाले

    • D. 

      हीरो

  • 7. 
    साक्षी हो कर्मेन्द्रियों से कर्म कराने वाले ____ के भान से मुक्त, अशरीरी भव
    • A. 

      मै पन

    • B. 

      शरीर

    • C. 

      कर्तापन

    • D. 

      कर्म

  • 8. 
    विश्व राजन बनना है तो विश्व को ____ देने वाले बनो
    • A. 

      प्रकाश

    • B. 

      सकाश

    • C. 

      सहारा

    • D. 

      सन्देश

  • 9. 
    कर्म करते योग की पॉवरफुल स्टेज रहे – इसका अभ्यास बढ़ाओ. बैलेन्स रहना अर्थात् ____ गति. बैलेन्स न होने के कारण चलते-चलते ____ गति की बजाए साधारण गति हो जाती है.
    • A. 

      तीव्र

    • B. 

      सद

    • C. 

      श्रेष्ठ

    • D. 

      शक्तिशाली

Related Topics
Back to Top Back to top