Hindi Murli Quiz 19-04-2014

10 Questions | Total Attempts: 164

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 19-04-2014

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज  के लिए यहाँ क्लिक करें


Questions and Answers
  • 1. 
    बाप की याद में सदा हर्षित रहो, पुरानी देह का भान छोड़ते जाओ, क्योंकि तुम्हें _____से वायुमण्डल को शुद्ध करने की सेवा करनी है
    • A. 

      योगबल

    • B. 

      भोगबल

    • C. 

      याद

    • D. 

      पवित्रता

  • 2. 
    स्कॉलरशिप लेने अथवा अपने आपको राजाई का तिलक देने के लिये कौन-सा पुरुषार्थ चाहिए?
    • A. 

      राजाई का तिलक तब मिलेगा जब याद की यात्रा का पुरुषार्थ करेंगे

    • B. 

      पढ़ाई पर पूरा ध्यान दो तब स्कॉलरशिप मिल सकती है

    • C. 

      आपस में भाई-भाई समझने का अभ्यास करो तो नाम-रूप का भान निकल जाये |

    • D. 

      सब सही हैं

  • 3. 
    बाबा कहते – बच्चे, ढेरों का ढेर धन तुमको देता हूँ | तुम सब गँवा बैठे हो | कितने हीरे जवाहरात मेरे ही मन्दिर में लगाते हो |  
    • A. 

      गलत

    • B. 

      सही

  • 4. 
    अमरलोक के ___ जन्मों का और मृत्युलोक के___ जन्मों का राज़ बाप ही समझाते हैं |
    • A. 

      ४२ ६३

    • B. 

      २१ ६३

    • C. 

      ४२ ८४

    • D. 

      २१ ८४

  • 5. 
    आज के सार से:-
    • A. 

      बेहद के बाप से सर्च लाइट लेने के लिये उनका मददगार बनना है | मुख्य बैटरी से अपना कनेक्शन जोड़कर रखना है

    • B. 

      किसी भी बात में समय बरबाद नहीं करना है |

    • C. 

      सच्ची कमाई करने वा भारत की सच्ची सेवा करने के लिये के बाप की याद में रहना है क्योंकि याद से वायुमण्डल शुद्ध होता है |

    • D. 

      जहाँ याद और सेवा का बैलेन्स अर्थात् समानता है वहाँ बाप की विशेष मदद अनुभव होती है

  • 6. 
    जितना _______बनने का पुरुषार्थ करेंगे तो कर्मेन्द्रियाँ वश होती जायेगी
    • A. 

      आत्मा

    • B. 

      देही-अभिमानी

    • C. 

      योग्य

    • D. 

      ब्राह्मण

  • 7. 
    अन्तकाल कोई शरीर का भान अथवा धन दौलत याद न आये | नहीं तो पुनर्जन्म लेना पड़ेगा
    • A. 

      गलत

    • B. 

      सही

  • 8. 
    वरदान:-  
    • A. 

      जहाँ याद और सेवा का बैलेन्स अर्थात् समानता है वहाँ बाप की विशेष मदद अनुभव होती है | यह मदद भी आशीर्वाद है क्योंकि बापदादा अन्य आत्माओं के मुआफ़िक आशीर्वाद नहीं देते

    • B. 

      बाप तो है ही अशरीरी, तो बापदादा की आशीर्वाद है सहज, स्वतः मदद मिलना जिससे जो असम्भव बात है वह सम्भव हो जाए |

    • C. 

      बेहद के बाप से सर्च लाइट लेने के लिये उनका मददगार बनना है | मुख्य बैटरी से अपना कनेक्शन जोड़कर रखना है

    • D. 

      सभी सही हैं

Related Topics
Back to Top Back to top