Hindi Murli Quiz 24-04-2014

9 Questions | Total Attempts: 142

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 24-04-2014

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज के लिए यहाँ क्लिक करें


Questions and Answers
  • 1. 
    तुम बच्चों की साइलेन्स में कौन-सा रहस्य समाया हुआ है?
    • A. 

      जब तुम साइलेन्स में बैठते हो तो शान्तिधाम को याद करते हो

    • B. 

      तुम जानते हो साइलेन्स माना जीते जी मरना | यहाँ बाप तुम्हें सद्गुरु के रूप में साइलेन्स रहना सिखलाते हैं

    • C. 

      तुम साइलेन्स में रह अपने विकर्मों को दग्ध करते हो | तुम्हें ज्ञान है कि अब घर जाना है | दूसरे सतसंगों में शान्ति में बैठते हैं लेकिन उन्हें शान्तिधाम का ज्ञान नहीं है

    • D. 

      सदा स्मृति रहे की हम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण हैं, हमारा सबसे ऊँच कुल है | हमें पवित्र बनना और बनाना है | पतित-पावन बाप का मददगार बनना है

  • 2. 
    मेरे पन के अनेक रिश्तों को समाप्त करना ही____ बनना है 
    • A. 

      पावन

    • B. 

      फ़रिश्ता

    • C. 

      पवित्र

    • D. 

      बाप समान

  • 3. 
    सतयुग-त्रेता का संगम उसे भी संगमयुग कह देते हैं | बाप कहते हैं यह भी सही है 
    • A. 

      सही

    • B. 

      गलत

  • 4. 
    तुम बच्चे अभी त्रिमूर्ति शिव के आगे बैठे हो | तुम विजय पहनते हो | वास्तव में तुम्हारा यह त्रिमूर्ति ____है |
    • A. 

      कोट ऑफ़ लव

    • B. 

      कोट ऑफ़ पीस

    • C. 

      कोट ऑफ़ वॉर

    • D. 

      कोट ऑफ़ आर्मस

  • 5. 
    ब्राह्मणों की पूजा हो नहीं सकती क्योंकि तुम्हारी आत्मा भल पवित्र है लेकिन शरीर तो पवित्र नहीं है, इसलिए पूजन लायक नहीं हो सकते | महिमा लायक हो
    • A. 

      सही

    • B. 

      सही

  • 6. 
    आज के सार से :-
    • A. 

      याद में कभी गफ़लत नहीं करना है | देह-अभिमान के कारण ही माया याद में विघ्न डालती है इसलिए पहले देह-अभिमान को छोड़ना है

    • B. 

      योग अग्नि द्वारा पाप नाश करने हैं

    • C. 

      तुम साइलेन्स में रह अपने विकर्मों को दग्ध करते हो | तुम्हें ज्ञान है कि अब घर जाना है | दूसरे सतसंगों में शान्ति में बैठते हैं लेकिन उन्हें शान्तिधाम का ज्ञान नहीं है

    • D. 

      सदा स्मृति रहे की हम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण हैं, हमारा सबसे ऊँच कुल है | हमें पवित्र बनना और बनाना है | पतित-पावन बाप का मददगार बनना है |

  • 7. 
    ___में कहते हैं पारसनाथ का चित्र है
    • A. 

      भोपाल

    • B. 

      नेपाल

    • C. 

      नागपाल

    • D. 

      मधुबन

  • 8. 
    आज का वरदान
    • A. 

      साधनों के होते, साधनों को प्रयोग में लाते योग की स्थिति डगमग न हो | योगी बन प्रयोग करना इसको कहते हैं न्यारा

    • B. 

      तुम साइलेन्स में रह अपने विकर्मों को दग्ध करते हो | तुम्हें ज्ञान है कि अब घर जाना है | दूसरे सतसंगों में शान्ति में बैठते हैं लेकिन उन्हें शान्तिधाम का ज्ञान नहीं है

    • C. 

      होते हुए निमित्त मात्र, अनासक्त रूप से प्रयोग करो | अगर इच्छा होती तो वह इच्छा अच्छा बनने नहीं देगी | मेहनत करने में ही समय बीत जायेगा |

    • D. 

      उस समय आप साधना में रहने का प्रयत्न करेंगे और साधन अपनी तरफ़ आकर्षित करेंगे इसलिए प्रयोगी आत्मा बन सहजयोग की साधना द्वारा साधनों के ऊपर अर्थात् प्रकृति पर विजयी बनो

Related Topics
Back to Top Back to top