Hindi Murli Quiz 13-04-2014

10 Questions | Total Attempts: 105

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 13-04-2014

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज के लिए यहाँ क्लिक करें


Questions and Answers
  • 1. 
    सहजयोगी के साथ-साथ श्रेष्ठ आत्मा स्वतः योगी होती है, क्योंकि ऐसी श्रेष्ठ आत्मा के लिए बाप और सेवा – यही ____ है.
    • A. 

      लक्ष्य

    • B. 

      उद्देश्य

    • C. 

      संसार

    • D. 

      धर्म

  • 2. 
    आज के स्लोगन के अनुसार सर्व की ब्लैंसिंग मिलने का आधार कौनसा है ?
    • A. 

      अपने प्रैक्टिकल जीवन के प्रूफ़ द्वारा साइलेन्स की शक्ति का आवाज़ फ़ैलाने से सर्व की ब्लैंसिंग मिलती रहेंगी

    • B. 

      सेवा और स्थिति का बैलेन्स रखो तो सर्व की ब्लैंसिंग मिलती रहेंगी

    • C. 

      उदारचित बनने से सर्व की ब्लैंसिंग मिलती रहेंगी

    • D. 

      वाणी द्वारा हर संकल्प श्वांस में सेवा करने से सर्व की ब्लैंसिंग मिलती रहेंगी

  • 3. 
    बाप की याद और सेवा ही ब्राह्मण जन्म के ____ हैं
    • A. 

      विचार

    • B. 

      आधार

    • C. 

      साधन

    • D. 

      संस्कार

  • 4. 
    बाप और सेवा के सिवाए न कुछ संसार में दिखाई देता है, न संस्कारों में और कोई ____ उत्पन्न हो सकता.
    • A. 

      विघ्न

    • B. 

      संकल्प

    • C. 

      व्दंद

    • D. 

      लक्ष्य

  • 5. 
    स्मृति द्वारा सर्व को मास्टर समर्थ ____ स्वरूप की स्मृति दिलाओ.
    • A. 

      शक्तिवान

    • B. 

      विद्वान

    • C. 

      शिक्षक

    • D. 

      सद्गुरु

  • 6. 
    वाणी द्वारा और कर्म द्वारा हमें कौनसा सहयोग और सन्देश अन्य आत्माओं को देना है ?
    • A. 

      वाणी द्वारा सर्व को मास्टर समर्थ शक्तिवान स्वरूप की स्मृति दिलाओ और कर्म द्वारा श्रेष्ठ बाप से सर्व सम्बन्धों की अनुभूति कराओ.

    • B. 

      वाणी द्वारा जो भी ब्राह्मण जीवन के ख़ज़ाने बाप द्वारा प्राप्त हुए हैं वह सब आत्माओं की सेवा प्रति लगाओ और कर्म द्वारा वायुमण्डल को श्रेष्ठ बनाने का सहयोग दो.

    • C. 

      वाणी द्वारा आत्माओं को स्वदर्शन चक्रधारी मास्टर त्रिकालदर्शी बनने का सहयोग, कर्म द्वारा सदा कमल पुष्प समान रहने का वा कर्मयोगी बनने का सन्देश हर कर्म द्वारा दो.

    • D. 

      वाणी द्वारा हर संकल्प श्वांस में सेवा करो और कर्म द्वारा सेवा का फल स्वयं में ख़ुशी और शक्ति का अनुभव करो.

  • 7. 
    ____ देना अर्थात् एक का सौगुणा जमा करना.
    • A. 

      सेवा

    • B. 

      दृष्टि

    • C. 

      सन्देश

    • D. 

      दान

  • 8. 
    उदारचित बनने से स्वयं का ____ सहज हो जायेगा.
    • A. 

      विकास

    • B. 

      उद्धार

    • C. 

      कल्याण

    • D. 

      जमा

  • 9. 
    विघ्न मिटाने में समय लगाने के बजाए सेवा की ____ में समय लगाओ.
    • A. 

      लगन

    • B. 

      वृद्धि

    • C. 

      विधि

    • D. 

      सोच

Related Topics
Back to Top Back to top