Hindi Murli Quiz 14-09-2015

10 | Total Attempts: 230

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 14-09-2015

.


Questions and Answers
  • 1. 
    ईश्वरीय सेवा में स्वयं को आफर करो तो ___ मिलती रहेगी। 
    • A. 

      प्राप्तियां

    • B. 

      ख़ुशी

    • C. 

      आफरीन

  • 2. 
    सेवा में स्वत सफलता कैसे होगी
    • A. 

      बाबा की याद में सेवा करने से

    • B. 

      निमित्त भाव से सेवा करने से

    • C. 

      हांजी का पाठ पक्का करने से

  • 3. 
    श्रेष्ठ सेवाधारी कौन है (आज के वरदान अनुसार)
    • A. 

      हर कदम श्रेष्ठ बनाने वाला

    • B. 

      हर कदम बाप से चेक करवाने वाला

    • C. 

      हर कदम बाप के कदम पर रखने वाले।

  • 4. 
    जितना सेवा में, स्व में व्यर्थ समाप्त हो जाता है उतना ही ___
    • A. 

      बाप के दिल्ताख्तनशीन बनते है

    • B. 

      समर्थ बनते हैं

    • C. 

      अनन्य बनते है

    • D. 

      गुणमूर्त बनते है

  • 5. 
    सही वाक्य पर टिक करें
    • A. 

      श्रेष्ठ सेवाधारी वह है जो स्वयं भी सदा उमंग उत्साह में रहे और औरों को भी उमंग उत्साह दिलाये।

    • B. 

      भक्ति मार्ग में ऐसा मूंझ जाते हैं जैसे भूल-भुलैया में मूंझ जाते हैं।

    • C. 

      लक्ष्मी-नारायण - इनके राज्य में दूसरा कोई धर्म होता नहीं।

  • 6. 
    आज के मुरली अनुसार ये अविनाशी है
    • A. 

      ड्रामा

    • B. 

      ज्ञान

    • C. 

      पार्ट

    • D. 

      दुनिया

  • 7. 
    पुरानी देहली है। अब पुरानी देहली मिटनी है, उसके बदले अब नई बननी है। अब नई कैसे बनती है? पहले तो
    • A. 

      आत्मा और परमात्मा का ज्ञान सबको देना है

    • B. 

      सब को बाप का परिचय देना है

    • C. 

      योग अग्नि से विश्व को पावन करना है

    • D. 

      उसमें रहने वाले लायक चाहिए।

  • 8. 
    देह- अभिमान घड़ी-घड़ी क्यूँ आता है
    • A. 

      बाप को याद नहीं करने से

    • B. 

      ज्ञान नहीं समझने से

    • C. 

      आधाकल्प का देह-अभिमान है

    • D. 

      संषय रखने से

  • 9. 
    कोई भी कारण से बाप को छोड़ा तो कहेंगे। 
    • A. 

      कपूत

    • B. 

      कमबख्त

Back to Top Back to top