Hindi Murli Quiz 23-07-2017

8 Questions | Total Attempts: 234

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 23-07-2017

यह क्विज मुरली रिवाइज करने में उपयोगी होगी I 


Questions and Answers
  • 1. 
    Q. सर्वन्श त्यागी बच्चों की विशेषतायें जिनके आधार पर वे बाप के समीप वा समान बनते हैं, उनका सहीचयन करें --- 
    • A. 

      संकल्प में सदा निराकारी सो साकारी, सदा न्यारी और बाप की प्यारी आत्मायें।

    • B. 

      वाणी में सदा निरंहकारी अर्थात् सदा रूहानी मधुरता और निर्माणता।

    • C. 

      कर्म में हर कर्मेन्द्रिय द्वारा निर्विकारी अर्थात् प्युरिटी की पर्सनैलिटी वाली।

    • D. 

      लौकिक सम्बन्ध -सम्पर्क में सदा प्यारे I

  • 2. 
    Q. “सर्वन्श-त्यागी स्वयं मास्टर दाता बन परिस्थितियों को भी परिवर्तन करने का, कमजोर को शक्तिशाली बनाने का, वायुमण्डल वा वृत्ति को अपनी शक्तियों द्वारा परिवर्तन करने का, सदा स्वयं को कल्याण अर्थ ज़िम्मेवार आत्मा समझ हर बात में सहयोग वा शक्ति के महादान वा वरदान देने का संकल्प करेंगे। यह करें तो मैं करूँ-- नहीं। मुझे देना है, मुझे करना है, मुझे बदलना है, मुझे निर्माण बनना है - ऐसे "ओटे सो अर्जुन" अर्थात् दातापन की विशेषता होगी। 
    • A. 

      सत्य

    • B. 

      असत्य

  • 3. 
    Q.सर्वन्श त्यागी बच्चे किसी भी विकार के अंश के भी वशीभूत होकर कोई कर्म नहीं करतेI वे महादानी -वरदानी अपनी हर कर्मेन्द्रिय द्वारा आत्माओं को विशेष अनुभूति कराते हैं--इसको पॉइंट्स चयन करके स्पष्ट करें I                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                
    • A. 

      मस्तक द्वारा सर्व को स्व-स्वरूप की स्मृति दिलाना।

    • B. 

      नयनों से रूहानी दृष्टि द्वारा सर्व को मुक्ति (असली घर) और जीवनमुक्ति (राज्य) का दर्शन कराना।

    • C. 

      मुख द्वारा रचयिता और रचना के विस्तार को स्पष्ट जान श्रेष्ठ ब्राह्मण सो देवता बनने का वरदान देना।

    • D. 

      हस्तों द्वारा सदा सहजयोगी, कर्मयोगी बनने के वरदान देना I

    • E. 

      चरण-कमल द्वारा हर कदम फालो-फादर कर, हर कदम में पदमों की कमाई जमा करने के वरदान देना I

  • 4. 
    Q. “ये पांच विकार लोगों के लिए जहरीले सांप हैं लेकिन आप योगी, तपस्वी आत्माओं के लिए ये सांप गले की माला बन जाते हैं इसलिए आप ब्राह्मणों के और ब्रह्मा बाप के अशरीरी, तपस्वी शंकर-स्वरूप के यादगार में सांपों की माला गले में दिखाते हैं। सांप आपके लिए खुशी में नाचने की स्टेज बन जाते हैं, यह विकारों की अधीनता की निशानी दिखाई है। तो जब विकारों पर इतनी विजय हो तब कहेंगे सच्चे तपस्वी।” 
    • A. 

      सत्य

    • B. 

      असत्य

  • 5. 
    Q.युगलों से मुलाकात के समय बापदादा की डायरेक्शन पर आधारित केवल सही वाक्य ही चयन करें --- 
    • A. 

      सभी प्रवृत्ति में रहते प्रवृत्ति के बन्धन से वा आत्माओं के सम्पर्क में आते सदा न्यारे और बाप के प्यारे रहोI

    • B. 

      लोकलाज के बन्धन में या सम्बन्ध में बंधे हुए को बन्धनमुक्त आत्मा कहेंगे, बन्धनयुक्त नही I

    • C. 

      सदा कमल आसन पर विराजमान रहो। कभी भी पानी वा कीचड़ की बूँद स्पर्श न करे।

    • D. 

      निमित्त अलौकिक और पारलौकिक सम्बन्ध लेकिन स्मृति में लौकिक सम्बन्ध रहे।

    • E. 

      प्रवृत्ति में सम्बन्ध के कारण नहीं रहे हो, सेवा के कारण रहे हो। घर नहीं सेवास्थान है।

  • 6. 
    Q. “पुराने संसार वा संस्कारों से मरना ही--------------- है।निम्नलिखित विकल्पों में से एक सबसे सटीक उत्तर से उपरोक्त रिक्त स्थान भरें I 
    • A. 

      जीते-जी-मरना

    • B. 

      ब्राह्मण-बनना

    • C. 

      देवता-बनना

    • D. 

      फ़रिश्ता-बनना

Back to Top Back to top