Hindi Murli Quiz! Trivia Questions

8 Questions | Total Attempts: 311

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz! Trivia Questions

.


Questions and Answers
  • 1. 
    Q.“तुम्हें बाप समान रूप बसन्त बनना है, ज्ञान योग को धारण कर फिर---------देखकर दान करना हैI” निम्नलिखित विकल्पों में से एक सबसे सटीक शब्द से उपरोक्त रिक्त स्थान भरेंI”
    • A. 

      आसामी

    • B. 

      सामर्थ्य

    • C. 

      रूचि

    • D. 

      मौका

  • 2. 
    Q.निम्नलिखित वाक्य सही हैं या गलत --चयन करें I   "द्वापर से पांव पड़ने की रसम चली आती है लेकिन संगम पर बाप उस रसम को बन्द करवा देते हैं। बाबा कहते यहाँ तुम्हें किसी के भी पांव पड़ने की दरकार नहीं। मैं तो अभोक्ता, अकर्ता, असोचता हूँ। तुम बच्चे तो बाप से भी बड़े हो क्योंकि बच्चा बाप की पूरी जायदाद का मालिक होता है। तो मालिकों को मैं बाप नमस्कार करता हूँ। तुम्हें पांव पड़ने की जरूरत नहीं। हाँ छोटे बड़ों का रिगार्ड तो रखना ही पड़ता है।”
    • A. 

      सही

    • B. 

      गलत

  • 3. 
    Q. “यह है कंसपुरी। ऐसे नहीं कि कृष्णपुरी में कंस भी था, यह सब दन्त कथायें हैं। कृष्ण की माँ को 8 बच्चे दिखाते हैं। यह तो ग्लानी हो गई। कृष्ण को टोकरी में डाल---------पार ले गये। फिर---------नीचे चली गई। वहाँ तो यह बातें होती नहीं। अभी तुम बच्चों को रोशनी मिली है। बाप कहते हैं आगे जो कुछ सुना है वह भूल जाओ।” निम्नलिखित विकल्पों में से एक सबसे सटीक शब्द से उपरोक्त रिक्त स्थान भरें I
    • A. 

      जमुना

    • B. 

      गंगा

    • C. 

      कावेरी

    • D. 

      गोदावरी

  • 4. 
    Q.धारणा के लिए ध्यानपूर्वक केवल सही पॉइंट्स चयन करें-----
    • A. 

      हर बात में अपना समय सफल करना है।

    • B. 

      दान भी आसामी (पात्र) देखकर करना है। जो सुनना नहीं चाहते हैं उनके पीछे टाइम वेस्ट नहीं करना है।

    • C. 

      बाप के और देवताओं के भक्तों को ज्ञान नही देना है।

    • D. 

      अविनाशी ज्ञान रत्नों को धारण कर साहूकार बनना है।

    • E. 

      पढ़ाई जरूर पढ़नी है। एक एक रत्न लाखों रूपयों का है, इसलिए इसे धारण करना और कराना है।

  • 5. 
    Q. निम्नलिखित वाक्य सत्य हैं या असत्य ---चयन करें I “बोल से भाव और भावना दोनों अनुभव होती हैं। अगर हर बोल में शुभ वा श्रेष्ठ भावना और आत्मिक भाव है तो उस बोल से जमा का खाता बढ़ता है। यदि बोल में ईर्ष्या,घृणा की भावना किसी भी परसेन्ट में समाई हुई है तो बोल द्वारा गंवाने का खाता ज्यादा होता है। समर्थ बोल का अर्थ है-जिस बोल में प्राप्ति का भाव वा सार हो। अगर बोल में सार नहीं है तो बोल व्यर्थ के खाते में चला जाता है।”
    • A. 

      असत्य

    • B. 

      सत्य

  • 6. 
    Q. “हर कारण का निवारण कर सदा सन्तुष्ट रहना ही--------------बनना है।” निम्नलिखित विकल्पों में से एक सबसे सटीक शब्द से उपरोक्त रिक्त स्थान भरकर  स्लोगन पूरा करें I 
    • A. 

      सन्तुष्टमणि

    • B. 

      इच्छामात्रम-अविद्या

    • C. 

      भरपूर

    • D. 

      विघ्न-विनाशक

Back to Top Back to top