Hindi Murli Quiz 22-02-2015

10 | Total Attempts: 152

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 22-02-2015

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज  के लिए यहाँ क्लिक करें |


Related Topics
Questions and Answers
  • 1. 
    वर्तमान समय अन्तिम स्वरूप वा अन्तिम कर्तव्य विश्व कल्याण का ही है । लक्ष्य सबका एक ही है विश्व कल्याण करने का, लेकिन कोई अभी तक स्व कल्याण मे ही लगे हुए है, और कोई स्वदेश के कल्याण करने मे लगे हुए है । बहुत थोड़े ही बेहद के बाप समान बेहद अर्थात् विश्व की सेवा मे अथवा विश्व कल्याणकारी स्वरूप में स्थित रहते हैं ।   
    • A. 

      True / ये वाक्य सही है

    • B. 

      False / ये वाक्य गलत है

  • 2. 
    विश्व कल्याणकारी अर्थात् रहमदिल आत्मा जो कैसी भी अवगुणधारी आत्मा हो, हरेक आत्मा के प्रति लाफुल और लवफुल होगी । आज की मुरली के अनुसार विश्व कल्याणकारी श्रेष्ठ आत्मा की मुख्य निशानियाँ क्या होगी?सभी का चयन करें --- 
    • A. 

      विश्व कल्याणकारी हर सेकेण्ड वा संकल्प विश्व कल्याण के प्रति ही लगायेंगे ।

    • B. 

      तन मन और प्राप्त धन सदा विश्व सेवा मे अर्पण करेंगे ।

    • C. 

      उनके मस्तक और नयनों में सदा विश्व की सर्व आत्माएं स्मृति वा दृष्टि में होंगी I

    • D. 

      यही संकल्प होगा कि सर्व को तृप्त अथवा सम्पन्न कैसे बनायें, उनको सम्पर्क और सम्बन्ध में कैसे लाये ।

    • E. 

      दिन-रात बाप द्वारा शक्तियों का वरदान लेते हुए सर्व को देने वाले दाता होंगे ।

    • F. 

      अथक, निरन्तर सेवाधारी होंगे ।

  • 3. 
    वास्तव में विश्व कल्याणकारी अर्थात् रहमदिल होना I लेकिन चलते-चलते उनका रहम दो बातो के कारण समाप्त हो जाता है –रहम भाव के बदले वहम भाव पैदा कर देते है और अहम भाव आ जाता है I मुरली में दिये गए वहम भाव के सभी संकल्प चयन करके वहम भाव को स्पष्ट करें -- 
    • A. 

      यह कभी बदल नही सकते,

    • B. 

      यह हैं ही ऐसे,

    • C. 

      सब तो राजा बनने वाले नहीं हैं,

  • 4. 
    वास्तव में विश्व कल्याणकारी अर्थात् रहमदिल होना I लेकिन चलते-चलते उनका रहम दो बातो के कारण समाप्त हो जाता है –वहम भाव और अहम भाव I मुरली में दिये गए सभी अहम भाव अर्थात मैं-पन के संकल्प चयन करें जिसके कारण रहमदिल नहीं बन पाते ---- 
    • A. 

      मैं ही सब कुछ हूँ,

    • B. 

      यह कुछ नही है ,

    • C. 

      यह कुछ नही कर सकते,

    • D. 

      मैं सब कुछ कर सकता हूँ

  • 5. 
    वास्तव में विश्व कल्याणकारी अर्थात् रहमदिल होना I लेकिन उनका रहम दो बातो के कारण समाप्त हो जाता है –वहम भाव और अहम भाव I इसलिए स्व कल्याण वा देश कल्याण तक ही रह जाते हैं । ऐसी स्थिति में बापदादा ने बच्चों को विश्व कल्याणकारी बनने के जो सहज साधन बताये हैं उनको स्पष्ट करें -– 
    • A. 

      कैसी भी अवगुणधारी आत्मा हो, तुम कभी भी उन आत्माओ की बुराई वा कमजोरियों को दिल पर न रखो I

    • B. 

      विश्व कल्याणकारी,विश्व अधिकारी,मास्टर रचता--इन तीन संबंधों से उसको क्षमा करो ।

    • C. 

      उसके बाद उस आत्मा के वास्तविक स्वरूप और गुण को सामने रखते हुए महिमा करो I

    • D. 

      संगमयुग की विशेषता वा वरदान क्या है-उसे याद दिलाओ I

    • E. 

      स्वय तो उसके अवगुण धारण नही करो लेकिन उसको भी अपने अवगुण विस्मृत करा समर्थ बना दो ।

  • 6. 
    बापदादा द्वारा बताई विधि से समर्थ धरनी बनाने के बाद ऐसी आत्मा प्रति थोड़ी-सी मेहनत करने से, वहम भाव और अहम् भाव न रखने से कमजोर आत्मा में भी परिवर्तन हो जायेगा। चाहे कितना भी कमजोर हो परन्तु  "तुम कमजोर हो" नही कहना I पहले समर्थ बनाकर फिर शिक्षा दो । पहले उनकी विशेषता की महिमा करो फिर उसको आगे के लिए और भी श्रेष्ठ आत्मा बनने का साधन, कमजोरी पर अटेंशन दिलाओ । पहले धरनी पर हिम्मत और उत्साह का हल चलाओ फिर बीज डालो तो सहज ही बीज का फल निकलेगा । 
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 7. 
    हिम्मतहीन कमजोर संस्कारवश आत्मा अर्थात् कलराठी जमीन में बीज डालते हैं तो मेहनत और समय ज्यादा लगता है और सफलता कम निकलती है, परिणाम स्वरूप -----------कल्याण के कार्य मे सोचने वा करने की फुर्सत नही मिलती I स्व कल्याण या देश कल्याण में ही लगे रहते हैं । इसलिए इस वर्ष मे -----------कल्याणकारी स्थिति की विधि द्वारा ----------- कल्याण की सेवा की गति तीव्र बनाओ I रहमदिल बनो ।[निम्नलिखित विकल्पों में से मुरली का उत्तर चयन कर सभी रिक्त स्थान भरें]         
    • A. 

      विश्व

    • B. 

      जन

    • C. 

      स्वदेश

    • D. 

      स्व

  • 8. 
    "मास्टर ज्ञान सागर बन गुड़ियों का खेल समाप्त करने वाले ------------------स्वरूप भव I"[निम्नलिखित विकल्पों में से मुरली अनुसार सही उत्तर से रिक्त स्थान भरें ]
    • A. 

      स्मृति सो समर्थ,

    • B. 

      बालक सो मालिक,

    • C. 

      ब्रह्मा सो विष्णु,

    • D. 

      विष्णु सो ब्रह्मा]

    • E. 

      विष्णु सो ब्रह्मा]