Hindi Murli Quiz 16-02-2015

10 | Total Attempts: 144

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 16-02-2015

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज  के लिए यहाँ क्लिक करें |


Questions and Answers
  • 1. 
    आज की धारणा के लिए मुख्य सार का चयन करें |  (उत्तर एक या एक से ज्यादा भी हो सकते हैं)
    • A. 

      बाप जो पढ़ाते हैं, उसका रिटर्न गुल-गुल (फूल) बनकर दिखाना है ।

    • B. 

      कभी भी ईश्वरीय कुल का नाम बदनाम नहीं करना है |

    • C. 

      जो ज्ञानवान और योगी हैं, उनका ही संग करना है ।

    • D. 

      मैं-पन का त्याग कर निरहंकारी बन रूहानी सेवा करनी है, इसे अपना फर्ज समझना है |

  • 2. 
    अपने जीवन को हीरे जैसा बनाने के लिए किस बात की बहुत-बहुत सम्भाल चाहिए? 
    • A. 

      संग की

    • B. 

      खान-पान की

    • C. 

      धन की

  • 3. 
    मृत्यु तो सतयुग में भी होगी , इसलिए उसे भी मृत्युलोक कह सकते हैं | सतयुग में पर तुम अपनी ख़ुशी से शरीर छोड़ते हो |  
    • A. 

      True / ये वाक्य सही है

    • B. 

      False / ये वाक्य गलत है

  • 4. 
    धर्मराज की ड्यूटी कब शुरू होती है ?  
    • A. 

      कलियुग

    • B. 

      संगमयुग

    • C. 

      द्वापर युग

  • 5. 
    कलियुग के अन्त में सब दु :खी हैं, इसको__ कहा जाता है  |
    • A. 

      जंगल

    • B. 

      बगीचा

    • C. 

      संगम

  • 6. 
    बाबा को सदा करन-करावनहार कहना रांग है |  
    • A. 

      True / ये वाक्य सही है

    • B. 

      False / ये वाक्य गलत है

  • 7. 
    हमेशा समझो शिवबाबा सुनाते हैं क्योंकि ...
    • A. 

      वह कभी हॉली डे नहीं लेते, कभी बीमार नहीं होते ।

    • B. 

      वह ही ज्ञान दे सकते हैं |

    • C. 

      वही पतित पावन है |

  • 8. 
    बापदादा सभी बच्चों को सदा सुखदाई स्थिति की सीट देते हैं । सदा इसी सीट पर सेट रहो तो अतीन्द्रिय सुख के झूले में झूलते रहेंगे सिर्फ___ के संस्कार समाप्त करो ।
    • A. 

      विस्मृति

    • B. 

      पुराने

    • C. 

      देह-अभिमान

  • 9. 
    तुम बच्चे इस समय सच्चे साहब को जानते हो | आज की मुरली में बाबा ने तुमको क्या बोला है?
    • A. 

      राजर्षि

    • B. 

      ब्राह्मण

    • C. 

      फ़रिश्ता

Back to Top Back to top