Hindi Murli Quiz 08-02-2015

10 | Total Attempts: 138

Settings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 08-02-2015

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज  के लिए यहाँ क्लिक करें |


Questions and Answers
  • 1. 
    ऐसा वरदानी जन्म, प्राप्तियां करने के बजाए मेहनत मे ही चला जाए तो ऐसा जन्म फिर कब मिलेगा ! मेहनत करने का मूल कारण है न चाहते हुए भी परवश हो जाते क्योकि माया भी जानी जाननहार रूप में आती है । वह भी जानती है कि इन ब्राह्मण आत्माओं का मुख्य आधार बुद्धि योग है - दिव्यबुद्धि द्वारा ही बाप से मिलन मना सकते तो माया भी पहले-पहले बुद्धि पर ही वार करती है । माया का विशेष बाण व्यर्थ संकल्पो के रूप मे होता है । वह इस बाण द्वारा दिव्यबुद्धि को कमजोर और परवश बना देती है । 
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 2. 
    आज की मुरली के अनुसार सभी सही वाक्यों का चयन करें --- 
    • A. 

      मनन शक्ति ही दिव्यबुद्धि की खुराक है ।

    • B. 

      खुराक को न खाने से बुद्धि कमजोर और फिर परवश हो जाती ।

    • C. 

      .जब से ब्राह्मण जन्म हुआ तब से बाप द्वारा टाइटिल्स की लम्बी माला मिली है ।

    • D. 

      भक्ति में सुमिरण शक्ति है और ज्ञान में स्मृति की शक्ति है ।

    • E. 

      रोज अमृतवेले एक टाइटिल को स्मृति लाओ और मनन करते रहो तो बुद्धि शक्तिशाली रहेगी ।

    • F. 

      कमजोर बुद्धि के ऊपर माया का वार नहीं हो सकता अर्थात् बुद्धि परवश नहीं हो सकती ।

  • 3. 
    सबसे ज्यादा फैशनबुल संगमयुगी ब्राह्मण हैं । जैसा समय वैसा स्वरूप, यह स्वरूप भी आपकी ड्रेस है । जैसी स्मृति वैसी वृत्ति वैसी दृष्टि और वैसी स्थिति अर्थात् स्वरूप । जैसे आजकल का फैशन है ना जैसा श्रंगार, वस्त्र भी वैसे, तिलक भी वैसे, तो ऑखो का श्रंगार भी वैसा करेंगे । तो सबसे फैशनबुल आप ब्राह्मण हो । ऐसी स्मृति वृत्ति और दृष्टि बनाओ । स्मृति है तिलक और दृष्टि है ऑखो का श्रृंगार और वृत्ति है मेकप करना । वृत्ति से जैसा  परिवर्तन चाहो वैसे कर सकते हो । तो सदैव रूहानी सजी सजाई मूर्त हो विश्व को परिवर्तन करने वाले!
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 4. 
    बापदादा बोले कि परवश होने के बजाए मायाजीत बनने का सहज साधन है -- मनन शक्ति को बढ़ाओ । बापदादा ने आजकी मुरली में मनन शक्ति को बढ़ाने की विभिन्न विधियों को बड़े सरल रूप में समझाया है, जिससे माया सदा के लिए नमस्कार करेगी ।[ उन सभी विधियों का चयन करें ] 
    • A. 

      अपने अनेक टाइटिल्स अर्थात् स्वरूप स्मृति में रखो ।

    • B. 

      अनेक गुणों के श्रंगार को स्मृति मे रखो ।

    • C. 

      अनेक प्रकार के खुशी के एवं नशे की पॉइंट्स स्मृति मे रखो I

    • D. 

      रचता बाप के परिचय की पॉइंट्स और रचना के विस्तार की पॉइंट्स स्मृति मे रखो ।

    • E. 

      याद द्वारा अनेक प्रकार के अनुभव और प्राप्तियों की पॉइंट्स को स्मृति में रखो I

  • 5. 
    जो बाप की स्मृति वह बच्चों की स्मृति, जो बाप के गुण वह बच्चों के गुण, जो बाप का कर्तव्य वही बच्चे का । इसको कहा जाता है ---------------। जो भी सकल्प वा कर्म करो तो पहले चेक करो कि बाप समान है I अगर बाप समान है तो सहजयोगी की स्टेज का अनुभव होगा । मेहनत नहीं लगेगी ।[निम्नलिखित विकल्पों में से सबसे सटीक उत्तर चयन कर रिक्त स्थान भरें ]   
    • A. 

      फालो-फादर

    • B. 

      बाप-समान

    • C. 

      आज्ञाकारी

    • D. 

      फरमानवरदार