Hindi Murli Quiz 05-03-2017

10 Questions | Total Attempts: 232

SettingsSettingsSettings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 05-03-2017

यह क्विज मुरली रिवाईज़ करने के लिए है I 


Questions and Answers
  • 1. 
    Q. “आज शमा अपने परवानों की रूहानी महफिल में आये हैं। शमा भी ----------है, परवाने भी ---------हैं और शमा- परवानों की प्रीत भी -----------है। इस रूहानी प्रीत को शमा और परवानों के सिवाए और कोई जान नहीं सकता। जिन्होंने जाना उन्होंने प्रीत निभाया और उन्होंने ही सब कुछ पाया।“निम्नलिखित विकल्पों में से एक सबसे सटीक शब्द से उपरोक्त तीन रिक्त स्थान भरें I 
    • A. 

      अविनाशी

    • B. 

      अलौकिक

    • C. 

      श्रेष्ठ

  • 2. 
    Q. ‘प्रीत की रीति’ विषय पर बापदादा के महावाक्य चयन करें --- 
    • A. 

      प्रीत की रीति निभाना अर्थात् सब कुछ पाना।

    • B. 

      प्रीत की रीति में सिर्फ दो बातें हैं - गीत गाना और नाचना।

    • C. 

      अमृतवेले से गीत गाना शुरू करते हो। दिनचर्या में भी उठते ही गीत से हो।

    • D. 

      बाप के वा अपने श्रेष्ठ जीवन की महिमा के गीत, ज्ञान के गीत और सर्व प्राप्तियों के गीत गाओ।

    • E. 

      गीत गाओ और खुशियों में नाचते-नाचते ही हर कर्म करो जैसे स्थूल-डांस में सारे शरीर की ड्रिल होती है।

  • 3. 
    Q.“बाप बोले कि एक शब्द--डिपरेशन-डिपरेशन कभी नहीं कहना, यहाँ छोड़कर जाना। जो बाप को डायवोर्स देते हैं, वह डिपरेशन में आते हैं। आप तो बाप के सदा कम्पेनियन हो। तो डिपरेशन शब्द शोभता नहीं है। सेल्फ-रियलाइजेशन हो गया, फिर डिपरेशन कैसे हो सकता। जब द्वापर पूरा हो जाए, कलियुग शुरू हो तब फिर भले डिपरेशन हो। लेकिन इतने समय के लिए तो इसको तलाक दे दो।” 
    • A. 

      सही

    • B. 

      गलत

  • 4. 
    Q. “सदा निर्विघ्न, सदा विघ्न-विनाशक और सदा सन्तुष्ट रहना तथा सर्व को सन्तुष्ट करना--यही सर्टिफिकेट सदा लेते रहना। यह सर्टिफिकेट लेना अर्थात् तख्तनशीन होना। सन्तुष्ट रहने का और सर्व को सन्तुष्ट करने का लक्ष्य रखो। दोनों का बैलेन्स रखो।“ 
    • A. 

      सही

    • B. 

      गलत

  • 5. 
    Q. संगम पर विभिन्न प्रकार के भाग्य हर आत्मा के नूंधे हुए हैं,उनको चयन करें ---- 
    • A. 

      रूहानी मिलन का भाग्य अमृतवेला ही ले आता है।

    • B. 

      अभी जो चाहो, जिस रूप में चाहो बाप से मिलन मना सकते हो।

    • C. 

      बाप को देखा, बाप का सुना, बाप के साथ सोया, बाप के साथ खाया, सब कुछ बाप के साथ करते हो।

    • D. 

      सेवा की तो भी बाप का परिचय दिया, बाप से मिलाया... तो कितना भाग्य हो गया!

  • 6. 
    Q. “ वर्तमान समय लोगों को और सब कुछ मिल सकता है लेकिन सच्ची खुशी नहीं मिल सकती। इसलिए ऐसे समय पर दु:खी अशान्त आत्माओं को खुशी की अनुभूति करा दो तो वे दिल से दुआयें देंगी। आप  दाता के बच्चे हो तो फ़िराक-दिली से खुशी का खजाना बांटो, रहमदिल के गुण को इमर्ज करो। कभी  भी यह नहीं सोचो कि यह तो सुनने वाले ही नहीं हैं। भल कोई आपोजीशन भी करे तो भी आपको रहम की भावना नहीं छोड़नी है। रहम भावना या शुभ भावना फल अवश्य देती है।“
    • A. 

      गलत

    • B. 

      सही

  • 7. 
    Q. “ ज्ञान-योग की पालना ही रूहानी पालना है, इस पालना से -----------बनो और बनाओ।“निम्नलिखित विकल्पों में से एक सबसे सटीक उत्तर से उपरोक्त रिक्त स्थान भरकर स्लोगन पूरा करें I 
    • A. 

      शक्तिशाली

    • B. 

      सर्वगुण-सम्पन्न

    • C. 

      पवित्र

    • D. 

      उपराम

Back to Top Back to top