Hindi Murli Quiz 04-02-2015

10

Settings
Please wait...
Hindi Murli Quiz 04-02-2015

ये क्विज आज की मुरली पर आधारित है| मुरली सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें| पुरानी क्विज  के लिए यहाँ क्लिक करें |


Questions and Answers
  • 1. 
    सतसंग की आवश्यकता तुम बच्चों को अभी ही है - क्यों? (उत्तर एक या एक से ज्यादा भी हो सकते हैं)
    • A. 

      तमोप्रधान आत्मा एक सत बाप, सत शिक्षक और सतगुरू के संग से ही सतोप्रधान अर्थात् काले से गोरी बन सकती है ।

    • B. 

      बिना सतसंग के निर्बल आत्मा बलवान नहीं बन सकती ।

    • C. 

      बाप के संग से आत्मा में पवित्रता का बल आ जाता है, 21 जन्म के लिए उसका बेड़ा पार हो जाता है ।

  • 2. 
    सतसंग करना माना -  
    • A. 

      बाप की याद में रहना

    • B. 

      बाप से ज्ञान सुनना

    • C. 

      सेवाकेंद्र पर ज्ञान सुनने जाना

  • 3. 
    भक्ति भी पहले अव्यभिचारी है फिर गिरते-गिरते व्यभिचारी भक्ति होने से तमोप्रधान बन जाते हैं फिर उनको सत का संग जरूर चाहिए ।  
    • A. 

      True / ये वाक्य सही है

    • B. 

      False / ये वाक्य गलत है

  • 4. 
      भल कहते हैं हम सतसंग में जाते हैं परन्तु वह __ में आ जाते हैं । 
    • A. 

      देह- अभिमान

    • B. 

      अहंकार

    • C. 

      भक्ति

  • 5. 
      सतसंग नाम यह ___ चला आता है । 
    • A. 

      अविनाशी

    • B. 

      परम्परा से

    • C. 

      द्वापरयुग से

    • D. 

      सतयुग से

  • 6. 
    याद नहीं करते हैं तो देह- अभिमान में हैं, देह तो असत चीज है ना ।  
    • A. 

      True / ये वाक्य सही है

    • B. 

      False / ये वाक्य गलत है

  • 7. 
    बाप कहते हैं मैं एक ही बार आता हूँ । अभी आत्मा का परमात्मा से संग होने से तुम 21 जन्म के लिए पार हो जाते हो । फिर तुमको संग लगता है __ का । 
    • A. 

      देह

    • B. 

      रावण

    • C. 

      भक्ति

    • D. 

      काम

    • E. 

      सन्यासियों

  • 8. 
    साधू-सन्त आदि तो समझते हैं आत्मा निर्लेप है, सभी परमात्मा ही परमात्मा हैं । ....
    • A. 

      तो इसका मतलब परमात्मा में खाद पड़ी है |

    • B. 

      तो इसका मतलब आत्मा सो परमात्मा है |

    • C. 

      तो इसका मतलब आत्मा ही पतित- पावन है |

  • 9. 
    बाप वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी है ना, उन द्वारा बल मिलता है । इसमें सब वेदों-शास्त्रों के आदि-मध्य- अन्त का ज्ञान आ जाता है ।
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 10. 
    बांधेलियां तन से भल परतन्त्र हैं लेकिन मन से यदि स्वतन्त्र हैं तो अपनी वृत्ति द्वारा, शुद्ध संकल्प द्वारा विश्व के वायुमण्डल को बदलने की सेवा कर सकती हैं । आजकल विश्व को आवश्यकता है मन के शान्ति की । तो मन से स्वतन्त्र आत्मा मन्सा द्वारा शान्ति के वायब्रेशन फैला सकती है । शान्ति के सागर बाप की याद में रहने से आटोमेटिक शान्ति की किरणें फैलती हैं । ऐसे शान्ति का दान देने वाले ही वाचा  महादानी हैं ।
    • A. 

      गलत

    • B. 

      सही