Hindi Murli Quiz 02-07-2017

10 Questions | Total Attempts: 180

SettingsSettingsSettings
Hindi Murli Quiz 02-07-2017 - Quiz

.


Questions and Answers
  • 1. 
    Q.आज बापदादा ने संगमयुगी स्वराज-दरबार में सहयोगी-आत्माओं का अवलोकन करते हुए देखा कि---(केवल सही वाक्य ही चयन करें) 
    • A. 

      हरेक भिन्न-भिन्न गुणों के गहनों से सजे सजाये हैं।

    • B. 

      सिंहासन की राज्य निशानी छत्रछाया-रूपी छतरी बड़ी अच्छी चमक रही है।

    • C. 

      हरेक सिंगल ताजधारी हैI

    • D. 

      हरेक राज्य अधिकारी के प्युरिटी की पर्सनैलिटी भी अपनी- अपनी है।

    • E. 

      रूहानियत की रॉयल्टी अपनी-अपनी नम्बरवार दिखाई दे रही है।

  • 2. 
    Q. “संगमयुगी श्रेष्ठ दरबार और भविष्य की राज्य-दरबार दोनों में गहरा सम्बन्ध है! अब की दरबार जन्म-जन्मान्तर की दरबार का फाउन्डेशन है। अभी के दरबार की रूपरेखा भविष्य दरबार की रूपरेखा बनाने वाली है। इसलिए आप अपने दिव्य-बुद्धि के यन्त्र द्वारा अपना वर्तमान काल और भविष्य काल जान सकते होI इस दिव्य-बुद्धि रूपी यन्त्र को यूज करने के लिए पहले त्रिकालदर्शी-पन की स्थिति में स्थित हो,तीनों काल की नॉलेज के आधार पर अपने आपको देखो कि मेरा नम्बर कौन-सा हैI”  
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 3. 
    Q.इतने विशाल-विश्व में अथाह-संख्या के बीच भोलेनाथ के भोले बच्चों ने स्नेह के आधार पर बाप से मिलन का भाग्य ले लिया और अन्य कौन-कौन सी आत्माएं वंचित रह गयीं, स्पष्ट करें --- 
    • A. 

      जो विश्व के आगे नामीग्रामी उम्मीदवार आत्मायें हैं वह सोचती और खोजती रह गई।

    • B. 

      कोई शास्त्रार्थ करते शास्त्रों में ही रह गये।

    • C. 

      बड़े-बड़े वैज्ञानिक खोजना करते उसी में खो गये।

    • D. 

      राजनीतिज्ञ योजनायें बनाते-बनाते रह गये।

    • E. 

      भक्त कण-कण में ढूँढते ही रह गये।

  • 4. 
    Q.“बड़े दिमाग वालों ने भाग्य नहीं पाया लेकिन सच्ची-दिल वालों ने पाया इसलिए कहावत है सच्ची दिल पर--------राजी।सच्ची दिल वाले की सर्वश्रेष्ठ संकल्प-रूपी आशायें सहज सम्पन्न होती हैं। सच्ची दिल वाले साकार, आकार, निराकार तीनों रूपों में सदा साथ का अनुभव करते हैं।”निम्नलिखित विकल्पों में से एक सबसे सटीक शब्द से उपरोक्त रिक्त स्थान भरें I 
    • A. 

      साहेब

    • B. 

      राजा

    • C. 

      प्रजा

    • D. 

      मालिक

  • 5. 
    Q.“होलीहंस सदा ज्ञान-रत्न चुगने वाले अर्थात् धारण करने वाले सदा बुद्धि में ज्ञान-रत्न भरपूर। बाकी जो भी व्यर्थ-बातें, व्यर्थ-दृश्य हैं, यह सब कंकड़ हो गये। हंस कभी कंकड़ नहीं लेते। तो कभी भी किसी भी व्यर्थ बात का प्रभाव न हो। अगर प्रभाव में भी आ गये तो वही मनन और वही वर्णन होगा। वर्णन, मनन से वायुमण्डल भी ऐसा बन जाता है और अगर उस बात को समा दो, साक्षी होकर पार कर लो तो वह बात राई हो जायेगी। तो सदा होलीहंस और सदा सागर के कण्ठे पर रहने वाले- सदा इसी स्वरूप की स्मृति में रहो।” 
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 6. 
    Q. “-----------करने वाले अर्थात् जो बाप का संकल्प वही मेरा संकल्प, जो बाप का बोल वही मेरा। तो जैसे बाप सदा सफलता स्वरूप है वैसे स्वयं भी सदा सफलता स्वरूप हो जायेंगे। इसलिए---------करने वाले मेहनत से छूट जायेंगे और सदा सहज-प्राप्ति की अनुभूति होती रहेगी।”निम्नलिखित विकल्पों में से एक सबसे सटीक शब्द से उपरोक्त दोनों रिक्त स्थान भरें I 
    • A. 

      फालो-फादर

    • B. 

      बफादारी

    • C. 

      ईमानदारी

    • D. 

      आज्ञा-पालन

  • 7. 
    Q.“जो स्वमान में स्थित रहते हैं उन्हें कभी भी हद का मान प्राप्त करने की इच्छा नहीं होती। एक स्वमान में सर्व हद की इच्छायें समा जाती हैं, मांगने की आवश्यकता नहीं रहती। हद की इच्छायें कभी भी पूर्ण नहीं होती हैं, एक हद की इच्छा अनेक इच्छाओं को उत्पन्न करती है और स्वमान सर्व इच्छाओं को सहज ही सम्पन्न कर देता है इसलिए स्वमानधारी बनो तो सर्व प्राप्ति स्वरूप बन जायेंगे, अप्राप्ति वा इच्छाओं की अविद्या हो जायेगी।” 
    • A. 

      True

    • B. 

      False

  • 8. 
    Q. “ हर परिस्थिति में स्वयं को मोल्ड कर लेने वाला ही-------------- है।”निम्नलिखित विकल्पों में से एक सबसे सटीक शब्द से उपरोक्त रिक्त स्थान भरकर स्लोगन पूरा करें I 
    • A. 

      रीयल-गोल्ड

    • B. 

      सफलतामूर्त

    • C. 

      सुखी

    • D. 

      सुरक्षित

Back to Top Back to top